ऑस्कर, जिसे औपचारिक रूप से अकादमी पुरस्कार के रूप में जाना जाता है, फिल्म उद्योग में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार समारोह है। 1929 में अपनी स्थापना के बाद से, ऑस्कर एक वैश्विक घटना बन गई है, जिसमें हर साल लाखों लोग समारोह देखने के लिए आते हैं। यह आयोजन सिनेमा का उत्सव है, जिसमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेताओं, निर्देशकों, लेखकों और अन्य फिल्म निर्माताओं को सम्मानित किया जाता है जिन्होंने फिल्म उद्योग में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

ऑस्कर का इतिहास

द एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज का गठन 1927 में लुइस बी. मेयर, डगलस फेयरबैंक्स और मैरी पिकफोर्ड सहित फिल्म उद्योग में प्रभावशाली हस्तियों के एक समूह द्वारा किया गया था। अकादमी का प्राथमिक लक्ष्य फिल्म उद्योग के विकास को बढ़ावा देना और क्षेत्र में उत्कृष्ट उपलब्धियों का सम्मान करना था।

पहला अकादमी पुरस्कार समारोह 16 मई, 1929 को हॉलीवुड रूजवेल्ट होटल में हुआ। यह आयोजन लगभग 270 लोगों का एक छोटा सा जमावड़ा था, और केवल 12 श्रेणियों में पुरस्कार प्रदान किए गए थे। समारोह का प्रसारण नहीं किया गया था, और अगले दिन प्रेस को विजेताओं की घोषणा की गई थी।

इन वर्षों में, ऑस्कर एक भव्य तमाशे के रूप में विकसित हुआ है, जिसने हॉलीवुड के सबसे बड़े सितारों और दुनिया भर के दर्शकों को आकर्षित किया है। पुरस्कार समारोह अब टेलीविजन पर लाइव प्रसारित किया जाता है और लाखों दर्शकों तक पहुंचने के लिए ऑनलाइन स्ट्रीम किया जाता है।

श्रेणियाँ और नामांकन

ऑस्कर विभिन्न श्रेणियों में प्रस्तुत किए जाते हैं, जिनमें सर्वश्रेष्ठ चित्र, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ अभिनेता, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री, सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता, सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री, सर्वश्रेष्ठ मूल पटकथा और सर्वश्रेष्ठ रूपांतरित पटकथा शामिल हैं।

नामांकित व्यक्तियों का चयन अकादमी के सदस्यों द्वारा किया जाता है, जो दुनिया भर के फिल्म उद्योग के पेशेवर हैं। पुरस्कार समारोह से कई सप्ताह पहले नामांकन की घोषणा की जाती है, और विजेताओं का चयन अकादमी की सदस्यता के एक वोट द्वारा किया जाता है।

वर्षों से, अकादमी को अपने नामांकन में विविधता की कमी के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा है, विशेष रूप से अभिनय श्रेणियों में। जवाब में, अकादमी ने अपनी सदस्यता की विविधता बढ़ाने और यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए हैं कि चयन प्रक्रिया में अधिक विविध आवाजें सुनी जाएं।

विवाद और आलोचनाएँ

पिछले कुछ वर्षों में ऑस्कर को कई विवादों और आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है। सबसे महत्वपूर्ण विवादों में से एक #OscarsSoWhite आंदोलन था, जो 2015 में शुरू हुआ और अकादमी के नामांकन में विविधता की कमी पर ध्यान आकर्षित किया। इस आंदोलन से अकादमी की सदस्यता और चयन प्रक्रिया में बदलाव आया, लेकिन कुछ आलोचकों का तर्क है कि फिल्म उद्योग में प्रणालीगत असमानताओं को दूर करने के लिए और अधिक प्रयास किए जाने की आवश्यकता है।

एक और विवाद जिसने ऑस्कर को त्रस्त कर दिया है, वह फिल्म निर्माण की कुछ शैलियों और शैलियों के प्रति कथित पूर्वाग्रह है। कुछ आलोचकों का तर्क है कि अकादमी हास्य, एक्शन फिल्मों और अन्य शैलियों पर गंभीर नाटकों का पक्ष लेती है, जिससे उन फिल्मों के लिए मान्यता की कमी हो जाती है जो ऑस्कर-योग्य फिल्म के पारंपरिक सांचे में फिट नहीं होती हैं।

इन विवादों और आलोचनाओं के बावजूद, ऑस्कर एक अत्यधिक प्रतिष्ठित पुरस्कार बना हुआ है, और एक जीतना फिल्म जगत में कई लोगों के लिए अंतिम उपलब्धि माना जाता है।

यादगार ऑस्कर पल

इन वर्षों में, ऑस्कर ने कई यादगार क्षण बनाए हैं जो हॉलीवुड की कहानियों का हिस्सा बन गए हैं। भावनात्मक स्वीकृति भाषणों से लेकर अप्रत्याशित जीत और आश्चर्यजनक प्रदर्शनों तक, ऑस्कर ने दर्शकों को अनगिनत अविस्मरणीय क्षण प्रदान किए हैं।

ऑस्कर के इतिहास में सबसे यादगार क्षणों में से एक था जब मार्लन ब्रैंडो ने 1973 में “द गॉडफादर” में अपनी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता। समारोह में भाग लेने के बजाय, ब्रैंडो ने अमेरिकी मूल-निवासी कार्यकर्ता सचिन लिटिलफेदर को अपनी ओर से पुरस्कार को अस्वीकार करने और आकर्षित करने के लिए भेजा। फिल्म उद्योग में अमेरिकी मूल-निवासियों की दुर्दशा पर ध्यान देना।

एक और यादगार पल था जब 1999 में रॉबर्टो बेनिग्नी ने “लाइफ इज ब्यूटीफुल” के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता। मंच पर जाने से पहले बेनिग्नी सभागार में सीटों पर चढ़ गए, चुंबन और गले मिले।

निष्कर्ष

ऑस्कर उनके विनम्र होने के बाद से एक लंबा सफर तय कर चुका है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *